You Are Here: Home » विविध » हर वर्ष पांच अगस्त को मनाया जाएगा अवधी दिवस

हर वर्ष पांच अगस्त को मनाया जाएगा अवधी दिवस

अवध की संस्कृति, भाषा, साहित्य लोककला, नृत्य संगीत व परम्पराओं को फिर से प्रतिष्ठड्ढा दिलाने के उद्ड्ढदेश्य से श्रीरामचरित मानस के रचयिता महाकवि तुलसीदास की जयंती पांच अगस्त को हर वर्ष ‘अवधी

दिवस’ का आयोजन किया जाएगा। अवधी संस्कृति, लोककला, साहित्य व परम्पराओं की अनमोल धरोहर को संरक्षित करने वाले लोगों को ‘तुलसी अवध श्री सम्मान’ से इस मौके पर नवाजा जाएगा। अवधी

विकास संस्थान की ओर से लिए गए इस निर्णय की घोषणा 24 जून को लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने की। उन्होंने बताया कि सम्मान के रूप में चयनित व्यक्ति को 21 हजार रुपए प्रशस्ति पत्र व प्रतीक

चिन्ह दिया जाएगा।
उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी की ओर से आयोजित ‘अवध संध्या’ में कमला श्रीवास्तव के मार्ग दर्शन में चली संस्कार लोकगीतों की कार्यशाला में तैयार लोकगीतों को प्रस्तुत किया गया। संस्कार गीतों

की मोहक शाम संत गाडगे जी महाराज प्रेक्षागृह में सजी। बच्चे के जन्म के समय गाए जाने वाले सोहर से लेकर विवाह संस्कार तक के विविध आयोजनों को इस अवसर पर खूबसूरत लड़ी में पिरोकर प्रस्तुत

किया गया।
भातखंडे संगीत संस्थान की पूर्व प्रोफेसर कमला श्रीवास्तव के निदेशन में आशा रावत, ऊषा, रंजना, अनीता सहगल, रीता, रिचा, कुसुम विजया और अदिति समेत अन्य महिलाओं ने हिस्सा लिया। अतिथियों पर

फूल बरसाकर प्रस्तोताओं ने आभार व्यक्त किया।

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.