You Are Here: Home » BIG NEWS » टीम मोदी में इस बार उत्तराखंड!

टीम मोदी में इस बार उत्तराखंड!

Captureप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जल्दी ही अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल करने वाले हैं, ऐसा माना जा रहा है और इसके साथ ही यह कयास भी तेज हो चला है कि इस बार उत्तराखंड को भी टीम मोदी में जगह मिल सकती है। इसका इकलौता कारण है। उत्तर प्रदेश की तरह उत्तराखंड में भी विधानसभा चुनाव सिर पर हैं। मोदी का जादू उत्तराखंड में अब तक नजर नहीं आया है। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद उत्तराखंड में तीन विधानसभा उपचुनाव हुए और एक में भी बाजी बीजेपी के हाथ नहीं लगी। उत्तराखंड में हमेशा ही सरकार के खिलाफ लोगों ने विधानसभा के आम चुनाव में वोट देना पसंद किया है। कोई भी सरकार यहां लगातार दो बार नहीं रही है। ऐसी हालत में बीजेपी की लिए अगले चुनाव में अच्छी संभावनाएं थीं पर सियासी जानकार अब कुछ और कहने लगे हैं।
उनका आंकलन है कि हरीश रावत की सरकार गिरा कर और फिर रावत के सत्ता में सुप्रीम कोर्ट के जरिये वापिस आने से बीजेपी की संभावनाएं पहले से कमजोर पड़ी है। बेहतर होता कि बीजेपी चुनाव तक का इंतजार करती और सरकार बनाती, जैसा कि राज्य का इतिहास बताता है। रावत के खिलाफ स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई जांच को भी बीजेपी के लिए सियासी विशेषज्ञ उचित नहीं मान रहे हैं। उनका मानना है कि हरीश अगर जेल चले गए तो बाजी बीजेपी के हाथ से पूरी तरह निकल भी सकती है । ऐसा उनके हक में सहानुभूति की लहर चलने से संभव है।
मोदी, बीजेपी आलाकमान और आरएसएस को भी इन सबका और अपनी गलतियों का आभास हो चुका है। लिहाजा उत्तराखंड की बाजी किसी भी सूरत में जीतने के लिए तीनों की कोशिश उत्तराखंड के लोगों की मनोवृत्ति को बदल कर बीजेपी की तरफ मोडऩा है । साथ ही यहां से किसी एक या दो को मंत्री बना कर यह सन्देश भी देना चाहते हैं कि यह राज्य उसकी प्राथमिकता सूची से इतर नहीं है। इस बार फेरबदल में जिन दो नामों पर ज्यादा चर्चा हो रही है उनमें भगत सिंह कोश्यारी और अजय टम्टा प्रमुख हैं। ’ टम्टा पिछली बार केंद्रीय मंत्री बनते बनते रह गए थे। उनका नाम अंतिम मौके पर कट गया था। वो शपथ ग्रहण के लिए दिल्ली निकल चुके थे। उनको रस्ते में बताया गया था कि उनका पत्ता लिहाल कट गया है। कांग्रेस ने इस बार राज्यसभा में प्रदीप टम्टा को भेज कर दलित वोटों पर हाथ साफ करने की मंशा दिखाई है। ऐसे में बीजेपी भी टम्टा को शायद इस बार दरकिनार नहीं कर पाएगी।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.