You Are Here: Home » carrier » 10वीं में अगले साल से देश स्तर पर ग्रेडिंग

10वीं में अगले साल से देश स्तर पर ग्रेडिंग

सीबीएसई: 10वीं में स्कूल स्तर पर अब तक रिजल्ट ग्रेडिंग में मिलता था, लेकिन 2018 से इसमें बदलाव किया जायेगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की मानें तो 2018 से 10वीं बोर्ड में देशभर में एक ग्रेडिंग जारी की जायेगी।
ए वन ग्रेड में अब देश भर में एक छात्र जो टॉपर होगा, वही शामिल होगा। इसी प्रकार ए टू में देश भर में दूसरा स्थान लाने वाले छात्र शामिल होगा। अगर एक जैसा अंक कई छात्रों का होगा तो उन्हें एक जैसे ग्रेड में ही रखा जायेगा। ज्ञात हो कि अब तक 91 से 100 फीसदी तक अंक लाने वाले को ए वन ग्रेड में रखा जाता था। वहीं ए टू ग्रेड में 81 से लेकर 90 फीसदी तक के छात्र शामिल होते थे। इन तमाम बातों की जानकारी सीबीएसई की ओर से आयोजित एक कार्यशाला में प्राचार्यों को दी गई। डीएवी, बीएसईबी में आयोजित कार्यशाला के दौरान प्राचार्यों को बताया गया कि अब सीसीई के तहत 10 फीसदी ग्रेस माक्र्स को समाप्त कर दिया गया है। इस कारण मूल्यांकन में सावधानी बरतें। कार्यशाला का आयोजन 10वीं में री-मॉडयूल स्ट्रक्चर ऑफ असेसमेंट को लेकर किया गया था। इस दौरान प्राचार्य को 10वीं बोर्ड परीक्षा के बदले हुए पैटर्न की जानकारी दी गयी। परीक्षा के बाद मूल्यांकन और रिजल्ट तैयार करने संबंधित जानकारी भी दी गयी। ज्ञात हो कि 2018 में आयोजित 10वीं बोर्ड परीक्षा में 80 अंक की थ्योरी और 20 अंक प्रोजेक्ट वर्क के लिए होगा।
2018 से 10वीं बोर्ड रिजल्ट में कुल अंक के साथ विषय वार ग्रेडिंग भी दी जायेगी। यह ग्रेडिंग भी देश स्तर पर जारी की जाएगी। इसकी सूचना सीबीएसई अंक पत्र पर छात्रों को देगा। इससे छात्र यह समझ पायेंगे कि देश भर में उन्हें उनके विषय में कौन-सा ग्रेड मिला है।
कार्यशाला में दिये गये निर्देश
द्य सीसीई की 10 फीसदी ग्रेडिंग समाप्त कर दी गई है। इससे मूल्यांकन में सावधानी बरतें
द्य नोटबुक वर्क के साथ लैब वर्क को रिजल्ट में किया जाएगा शामिल
द्य स्टेपवाइज मूल्यांकन करें, को-स्कूलिस्टिक एक्टिविटी पर नहीं दिये जाएंगे अंक
द्य प्रश्नपत्र में बदलाव की जानकारी दें छात्रों को
द्य हर विषय में 80 अंक का होगा थ्योरी पेपर

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.