You Are Here: Home » BIG NEWS » काला धन का सबसे बड़ा डॉन-चंदे का धंधा करने वाला इलेक्टोरल बांड

काला धन का सबसे बड़ा डॉन-चंदे का धंधा करने वाला इलेक्टोरल बांड

इस कानून के बाद 20,000 से ऊपर चंदा देने पर नाम बताने के कानून का क्या होगा? उसके रहते सरकार कोई नियम कैसे बना सकती है कि आप बांड खरीद लेंगे तो 1 लाख या 1 करोड़ तक के चंदा देने पर किसी को न नाम न सोर्स बताने की जरूरत होगी। खेल समझ आया? हंसी आ रही है, भारत की नियति यही है।

सरकार के लिए पारदर्शिता नया पर्दा है। इस पर्दे का रंग तो दिखेगा मगर पीछे का खेल नहीं। चुनावी चंदे के लिए सरकार ने बांड खरीदने का नया कानून पेश किया है। यह जानते हुए कि मदहोश जनता कभी ख्याल ही नहीं करेगी कि कोई पर्दे को पारदर्शिता कैसे बता रहा है। पहले किसी राजनीतिक दल को 20,000 या उससे अधिक चंदा देने पर दाता का नाम जाहिर करना होता था। राजनीतिक दलों ने एक खेल खेला। सारे चंदे को 20,000 से कम का बता दिया। चुनाव आयोग उनके झूठे दस्तावेजों के कबाड़ को पारदर्शिता और जवाबदेही के नाम पर ढोता रहा। हम सभी तो आज तक ढो ही रहे हैं।
20,000 चंदा देने वाले कानून से किसी राजनीतिक दल को कोई दिक्कत नहीं थी। राजनीतिक दल पहले भी करप्शन का पैसा पार्क करने या जमा करने का अडï्डा थे, एक नए कानून के तहत अगर आपके पास काला धन है तो चुपचाप किसी दल के खजाने में जमा कर दीजिए। बोझ हल्का हो जाएगा। इसके लिए आपको बस स्टेट बैंक आफ इंडिया की 52 शाखाओं से 1000, 10,000, 1,00000, 1,0000000 का बांड खरीदना होगा। आपके खरीदते ही आपका काला धन गुप्त हो जाएगा। अब कोई नहीं जान सकेगा। बैंक आपसे नहीं पूछेगा कि आप किस पैसे से बांड खरीद रहे हैं और इतना बांड क्यों खरीद रहे हैं। आप उस बांड के जरिए किसी पार्टी को चंदा दे देंगे और पार्टी उस बांड को बैंक से भंजा लेगी। आप पाठकों में से कुछ तो दसवीं पास होंगे ही, इतना तो समझ ही गए होंगे कि यह पारदर्शिता नहीं उसके नाम पर काला धन पर पर्दा है। पार्टी के नाम पर भीड़ बनाकर गाली देने, मार पीट करने पर तो रोक नहीं है फिर किसी को चंदा देने के नाम पर इतनी पर्दादारी क्यों हैं। आप मैट्रिक का सर्टिफिकेट जरूर चेक करें।
वित्त मंत्रालय ने पिछले हफ्ते इस योजना की घोषणा की है। बताया है कि व्यक्ति, व्यक्तियों का समूह, एनजीओ, धार्मिक और अन्य ट्रस्ट हिन्दू अविभाजित परिवार और कानून के द्वारा मान्य सभी इकाइयां बिना अपनी पहचान जाहिर किए चंदा दे सकती हैं।
इस कानून के बाद 20,000 से ऊपर चंदा देने पर नाम बताने के कानून का क्या होगा? उसके रहते सरकार कोई नियम कैसे बना सकती है कि आप बांड खरीद लेंगे तो 1 लाख या 1 करोड़ तक के चंदा देने पर किसी को न नाम न सोर्स बताने की जरूरत होगी। खेल समझ आया? हंसी आ रही है, भारत की नियति यही है। जो सबसे भ्रष्ट है वह भ्रष्टाचार के खिलाफ लडऩे का आश्वसन देता है और हम आश्वस्त हो जाते हैं। चुनाव आयोग ने कुछ हल्ला किया है? क्या आपको पता है कि एनजीओ, धार्मिक ट्रस्ट या किसी व्यक्ति को अपना सालाना रिटर्न पब्लिक में जाहिर नहीं करना पड़ता है। सरकार के पास जमा होता है और वो आप नहीं जान सकते। तो ये एनजीओ किसको चंदा देंगे पता नहीं। एक समय तक एक राजनीतिक दल लगातार आरोप लगाता था कि ईसाई मिशनरी या बाहर के संगठन विदेशों से पैसा ला रहे हैं और एनजीओ में डाल रहे हैं। भारत के लोकतंत्र को प्रभावित करने के लिए चंदा दे रहे हैं। फिर वही राजनीतिक दल एनजीओ किसे पैसा दे रहे हैं, इस बात को गुप्त रखने का कानून कैसे ला सकता है।
कंपनियों को अपना हिसाब किताब सार्वजनिक करना होता है मगर स्क्रोल डॉट इन पर नितिन सेठी ने लिखा है कि उन्हें ये नहीं बताना पड़ेगा कि साल में कितना बांड खरीदा। अब गेम समझिए। फर्जी पार्टी बनाइये। किसी से चंदा लीजिए, उसका काला धन बैंक से भंजा लीजिए और फिर ऐश कीजिए। मेले में जाकर नाचिए कि पारदर्शिता आ गई, काला धन मिट गया। राग मालकौस बजा लीजिएगा। सरकार आपकी हर जानकारी जान सके इसलिए आधार आधार कर रही है, वही सरकार राजनीतिक दलों के लिए ऐसा कानून लाती है कि चंदा देने वाला का नाम किसी को पता ही न चले। क्या आप अब भी इसे पारदर्शिता कहेंगे?
वेंकटेश नायक का कहना है कि इस बांड के जरिए सरकार एक नई प्रकार की मुद्रा पैदा कर रही है जिसके जरिए सिर्फ किसी व्यक्ति और राजनीतिक दल के बीच लेनदेन हो सकेगा। वेंकटेश नायक ्रष्ष्द्गह्यह्य ह्लश ढ्ढठ्ठद्घशह्म्द्वड्डह्लद्बशठ्ठ ड्डह्ल ष्टशद्वद्वशठ्ठ2द्गड्डद्यह्लद्ध ॥ह्वद्वड्डठ्ठ क्रद्बद्दद्धह्लह्य ढ्ढठ्ठद्बह्लद्बड्डह्लद्ब1द्ग के प्रोग्राम कोर्डिनेटर हैं। राजनीतिक दलों को भी इस काम से मुक्ति दे दिया गया है कि वे इस बात को रिकार्ड करें कि उन्हें चंदा देने वाला कौन है। इसका मतलब है कि कोई माफिया, अपराधी जो चाहे किसी भी दल को लूट का माल आंख मूंद कर दे सकता है। उसे सिर्फ बांड खरीदना होगा। कांग्रेस सहित कुछ राजनीतिक दलों ने इस इलेक्टोरल बांड का विरोध किया है। कांग्रेस के राजीव गौड़ा का कहना है कि यह योजना सफेद पैसा, पारदर्शिता और तटस्थता तीनों पैमाने पर फेल है।
आप इस इलेक्टोरल बांड के बारे में खुद से भी पढ़ें। सिर्फ एक सवाल करें कि क्या नाम पहचान गुप्त रख कर करोड़ों का बांड खरीद कर कोई राजनीतिक दल को चंदा देता है और राजनीतिक दल उस चंदे के बारे में किसी को बताने के लिए बाध्य नहीं है तो यह किस हिसाब से पारदर्शिता हुई। इस बारे में महान चुनाव आयोग के महान चुनाव आयुक्तों ने क्या कहा है, इसके बारे में भी गूगल सर्च कर लें।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.