You Are Here: Home » विविध » उच्च शिक्षा को बेहतर करेगी त्रिवेंद्र सरकार

उच्च शिक्षा को बेहतर करेगी त्रिवेंद्र सरकार

  • सबको शिक्षा-सबको अच्छी शिक्षा योजना पर होगा अमल

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

देहरादून। उत्तराखंड सरकार उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए मौजूदा शिक्षा योजना को दुरुस्त करेगी। इसके लिए जो भी दरकार होगी वह कॉलेजों को मुहैया कराई जाएगी। प्रदेश के उच्च शिक्षा राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) डा. धन सिंह रावत ने राष्टï्रीय उच्च शिक्षा अभियान/रूसा विषय पर इस विषय पर बैठक भी देहरादून में ली। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के गुणवत्ता विकास पर बल देना होगा। तभी उच्च शिक्षा का स्तर प्रदेश में उठ पाएगा। सबको शिक्षा, अच्छी शिक्षा योजना अमल में लायी जाये। इस योजना से समस्त कॉलेजों में शतप्रतिशत लास रूम से लेकर स्मार्ट क्लास, ई-लाईब्रेरी, पुस्तक, फर्नीचर, लैब, लाइब्रेरी, अध्यापक उपलब्ध करायी जायेगी।
इस योजना में उन्ही कॉलेजों को रूसा के अन्तर्गत धन का आवंटन किया जायेगा जो नैक के अन्तर्गत आते हैं। नैक के मानक के अनुसार सभी विद्यालय में शतप्रतिशत प्राचार्य, बिल्डिंग, अध्यापक,छात्र- अध्यापक का अनुपात, छात्र उपस्थिति, प्रदर्शन, सुविधायें होनी चाहिए। इस मानक के अनुरूप उत्तराखण्ड को समस्त डिग्री कॉलेजों को शामिल किया जायेगा। रूसा के अन्तर्गत अभी तक कुल 72 करोड़ रुपये मिले हैं। जिसमें से दून विश्वविद्यालय एवं कुमाऊ विश्वविद्यालय के लिए 20-20 करोड़ रुपये के अतिरिक्त कुल 49 कॉलेजों को सुविधायें दी जायेंगी।
अभी तक कुल 72 करोड़ रुपये मिले हैं। बजट में एसजीआरआर कालेज देहरादून 2 करोड़, राजकीय महिला महाविद्यालय हल्द्वानी 2 करोड़, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोटद्वार 2 करोड़, ऋ षिकेश, काशीपुर, बागेश्वर, द्वारहाट, डाकपत्थर, रूद्रपुर, रामनगर, लोहाघाट राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालयों को 2-2 करोड़ एमबीपीजी कॉलेज हल्द्वानी को 2 करोड़, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डोईवाल 3 करोड़, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मुनस्यारी 2 करोड़, रूसा परियोजना निदेशालय 3 करोड़ रुपये आवंटित किये जायेंगे।
इस सम्बन्ध में मंत्री ने कहा उत्तराखण्ड के उच्च शिक्षा से सम्बन्धित कॉलेजों और विश्वविद्यालय में सभी विद्यार्थियों के लिए 100 प्रतिशत पुस्तक की व्यवस्था की जायेगी। पहली बार सभी महाविद्यालय में अतिरिक्त सभी विद्यार्थियों को लैब, शौचालय, कम्प्यूटर लाइब्रेरी, ई-लाईब्रेरी, स्मार्ट क्लास, खेल का सामान, प्राचार्य, असिस्टेंट प्रोफेसर की सुविधा दी जायेगी। प्रत्येक कॉलेज में प्राचार्य के साथ कम से कम 2 असिस्टेंट प्रोफेसर और एक क्लर्क होगा। 80 डिग्री कॉलेजों का अपना भवन होगा। 74 डिग्री कॉलेजों में अपना भवन है। छह कॉलेजों में भवन निर्माण रूसा के माध्यम से चल रहा है। बैठक में ये भी कहा गया कि मॉडल कॉलेजों में पुस्तकालय बना कर आम नागरिकों को पुस्तकालय की सुविधा दी जाये।

 

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.