You Are Here: Home » इंटरव्यू » बड़े लक्ष्यों को हासिल करने के लिए संघर्ष जरूरी

बड़े लक्ष्यों को हासिल करने के लिए संघर्ष जरूरी

  • दून विश्वविद्यालय में छात्र पदाधिकारी सम्मेलन
  • मुख्यमंत्री ने किया ई-सर्विस बुक का विमोचन

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने लिंगदोह समिति की रिपोर्ट को बेहतरीन करार देते हुए कहा कि इससे कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में सकारात्मक परिवर्तन आएगा और शिक्षा का बेहतर माहौल बनेगा। दून विश्वविद्यालय में आयोजित प्रदेश स्तरीय छात्र संघ पदाधिकारी सम्मेलन में उन्होंने कहा कि सकारात्मक कार्यों और योजनाओं को प्रोत्साहन मिलना चाहिए। उच्च शिक्षा विभाग की तरफ से आयोजित सम्मेलन कॉलेज व विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव दिशा निर्देशों के लिए बनी लिंगदोह समिति की सिफारिशों पर पुनर्विचार के लिए था। प्रदेशभर के छात्र संघ पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कॉलेज व विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव के सम्बन्ध में लिंगदोह समिति की सिफारिशों पर प्रदेशस्तर पर परिचर्चा होना रचनात्मक व स्वागतयोग्य पहल है। लिंगदोह समिति की सिफारिश वर्ष-2008 में आई थी। समिति की सिफारिशों पर बदलते समय की आवश्यकतानुसार पुनर्विचार पर चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे कॉलेजों और महाविद्यालयों के शैक्षिक वातावरण व शिक्षा के स्तर में भी बेहतर परिर्वतन होगा। सकारात्मक परिवर्तन के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति जरूरी है। छात्र संघ के चुनाव युवाओं के लिए राजनीति में प्रवेश का पहला लोकतांत्रिक कदम है। राजनीति, छात्रों व शिक्षा जगत को समन्वित रूप से राज्य व देश हित में एक ही दिशा में कार्य करना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं में वैचारिक मजबूती, दृढ़ आधार व सोच होनी चाहिए। अपने ध्येय के प्रति मजबूती के साथ काम करने की क्षमता होनी चाहिए। सोच व दृष्टिकोण स्पष्ट होना चाहिए। बड़े लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए युवाओं में संघर्ष करने की क्षमता भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि आशा है कि छात्र संघ पदाधिकारियों का यह सम्मेलन कॉलेज की राजनीति को मजबूती एव अच्छी दिशा देगा।
त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा राज्य में उच्च शिक्षा की गुणवता पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उच्च शिक्षा में शोध कार्यो को बढ़ावा देने के लिए राज्य के 100 मेधावी व आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को शोध हेतु सहायता दी जा रही है। सुपर-100 योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर 100 छात्रों को सिविल सर्विसेज की निशुल्क कोचिंग दी जाएगी। इसी प्रकार 100 मेधावी व निर्धन छात्रों को एनडीए व सीडीएस की निशुल्क कोंचिग दी जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य की युवा शक्ति किस प्रकार प्रदेश के विकास में भागीदारी कर सकती है इसके लिए शिक्षक व छात्रों से निरन्तर संवाद किया जा रहा है।
शिक्षा के स्तर व गुणवता में सुधार हेतु छात्रों के सुझाव लिए जा रहे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पहली ई-सर्विस बुक व एमआईएस का विमोचन भी किया। इस अवसर पर उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ.धन सिंह रावत ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.