You Are Here: Home » विविध » एक व्यंजन के लिए दक्षिणपूर्व एशिया के कई देश हुए लामबंद

एक व्यंजन के लिए दक्षिणपूर्व एशिया के कई देश हुए लामबंद

आपको लगेगा की भला एक डिश को लेकर इतना बड़ा भी क्या विवाद हो सकता है, पर जब आप इस खबर को पढ़ेंगे तो समझ में आयेगा। रायटर की एक खबर के अनुसार एक कुकिंग शो के दौरान शेफ ने एक डिश को रिजेक्ट कर दिया और उसका जो आधार बताया उससे पूरे दक्षिणपूर्वी देशों में हलचल मच गई और सवाल उठने लगे। इतना ही नहीं इंडोनेशिया और मलेशिया जो आमतौर पर एकमत नहीं दिखाई देते इस मामले में एक ही पाले में खड़े दिखे।

चिकन रेनडांग बना वजह
दरअसल घटना इस वर्ष अप्रैल माह की है। ब्रिटेन में कुकरी शो मास्टर शेफ का आयोजन चल रहा था। शो में एक मलेशियाई प्रतियोगी ज़ालिहा कादिर ने चिकन रेनडांग नाम की डिश बना कर प्रेजेंट की। शो के जज ने उसे टेस्ट किया और ये कहते हुए रदï्द कर दिया कि व्यंजन बिलकुल क्रिस्पी नहीं है। बस यहीं से सारा मामला शुरू हुआ।
इसके एकदम सही बनने का मतलब होता है कि मीट इस हद तक गल जाये कि वो मुंह में जाते ही पिघल जाए। अब ऐसे में जज का ये कहना कि ये करारा नहीं है, सबको अजीब लगा। इस मामले में केएफसी के कुक का कहना है कि रेनडांग के क्रिस्पी ना होने की शिकायत तो ऐसी है जैसे कहना हैंमबर्गर उबाला नहीं गया।

सोशल मीडिया पर दिखा गुस्सा
शेफ के इस निर्णय के साथ ही सोशल मीडिया पर जंग छिड़ गई और रेनडांग और रेनडांगेट नाम सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगे। इंडोनेशिया, मलेशिया, ब्रूनेई और सिंगापुर जैसे तमाम देशों से लोग इस लड़ाई में शामिल हो गए। कई बार एक दूसरे के खिलाफ दिखने वाले मलेशिया और इंडोनेशिया के लोग साथ में नजर आने लगे, जब यहां के लोगों ने कहा कि वे इस मुदï्दे पर एकजुट हैं। हालांकि रेनडांग इंडोनेशियाई डिश है या मलेशियाई इस पर हमेशा विवाद होता रहा है।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.