You Are Here: Home » UTTAR PRADESH » सरकार के दावों की पोल खोल रहे सडक़ों के गड्ढे

सरकार के दावों की पोल खोल रहे सडक़ों के गड्ढे

  • गोमती नगर के विशाल खंड में खोखली हो गई सडक़, बन चुके है कई फुट गहरे गड्ढे
  • सीवरेज कार्य ने बिगाड़ दी सूरत, बड़े हादसों को न्योता दे रहे बड़े गड्ढे

वीक एंड टाइम्स न्यूज नेटवर्क
लखनऊ। गड्ढा मुक्त सडक़ों के सरकारी दावों की पोल अब खुलने लगी है। कई सडक़ों में बड़े-बड़े गड्ढे बन गए हैं। सीवरेज कार्य के चलते सडक़े धंस गई है लेकिन इन गड्ढों को भरा नहीं गया है। यही नहीं कई इलाकों में सडक़ें खोखली हो गई हैं। सडक़ों पर बने गड्ढे हादसों को दावत दे रहे हैं। वहीं शिकायतों के बावजूद नगर निगम हाथ पर हाथ धरे बैठा है।
शहर में कराए गए सीवरेज कार्य ने सरकार की गड्ढा मुक्त सडक़ योजना को पलीता लगा दिया है। तमाम इलाकों में सीवरेज लाइन के चेंबर में गड़बड़ी के कारण सडक़ें खोखली हो रही हैं। इस मामले में सबसे ज्यादा शिकायतें गोमतीनगर से मिल रही हैं। यहां सडक़ धंसने से कई गड्ढे बन गए हैं। सडक़ों पर बने बड़े गड्ढे हादसों का न्योता दे रहे हैं। यही नहीं ये गड्ढे अंदर से बड़े है जबकि सतह से उनका आकार छोटा दिखाई देता है। ऐसे में कोई भी दुघर्टना का शिकार हो सकता है। यह समस्या तब ज्यादा बढ़ जाती है जब बारिश के दौरान सडक़ों पर पानी भर जाता है और सडक़ें नजर नहीं आती हैं। गोमती नगर स्थित विशाल खंड-2 और 3 में सडक़ खोखली हो चुकी है। लोगों का आरोप है कि यह समस्या सीवरेज कार्य में बरती गई लापरवाही के कारण उत्पन्न हुई है। गोमती निगर स्थित अम्बेडकर चौराहे से दयाल पैराडाइज को जोडऩे वाले मार्ग की हालत बेहद खराब हो चुकी है। यहां भवन संख्या-बी2/114 के सामने सडक़ धंस चुकी है। सीवर के चेम्बर में लीकेज होने के कारण यह समस्या पैदा हो रही है। विशाल खंड-3 के भवन संख्या- 3/295 के सामने भी सडक़ धंस चुकी है जिसके चलते यहां भी गहरा गड्ढा हो चुका है। इस लाइन में पूरी सडक़ ही बर्बाद हो चुकी है। लिहाजा इधर से गुजरने वाले लोगों की जान जोखिम में पड़ी रहती है। सीवर चैंबर के ठीक बगल में बड़ा गड्ढा बना है। इससे बड़े वाहनों से लेकर दोपहिया वाहनों तक दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। कुल मिलाकर ये गड्ढे कभी भी मौत के कुएं में तब्दील हो सकते हैं। अनजान व्यक्ति अगर रात के अंधेरे में इन सडक़ों और चौराहों से गुजर जाए तो दुर्घटना हो सकती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि कई बार चार पहिया वाहन भी इन गड्ढों में फंस चुके हैं। इसके अलावा निशातगंज स्थित न्यू हैदराबाद मोड पर भी सडक़ जर्जर हो चुकी है। पूरी सडक़ पर आधा-आधा फुट के गड्ढे बन चुके हैं। बाइक सवार अक्सर यहां गिरकर चोटिल होते रहते हैं। मेन चौराहों और सडक़ों पर बने इन गड्ढों के कारण अक्सर जाम भी लग जाता है। दूसरी ओर तमाम शिकायतों के बावजूद नगर निगम प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा

गोमतीनगर के विशाल खंड में सडक़ में बने गड्ढों के अलावा खुले मैन होल से भी लोग परेशान हैं। सडक़ पर कई जगह मैन होल खुले हैं। इसी रोड पर स्कूल भी है। यहां सुबह सात बजे से दोपहर तक अभिवावकों का तांता लगा रहता है। बड़े वाहन से लेकर छोटी गाडिय़ों के साथ ही बाइक सवार व रिक्शाचालकों की लाइन लगी रहती है। इससे दुर्घटना की आशंका हमेशा बनी रहती है। शहर के वीआईपी ़क्षेत्र गोमतीनगर का जब यह हाल है तो अन्य क्षेत्रों की स्थिति के बारे में आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है।

 

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.