You Are Here: Home » खबरची » नौकाविहार का आनंद

नौकाविहार का आनंद

स्वच्छ भारत अभियान के तहत भारत में कितनी सफाई हुई ये तो पता नहीं लेकिन राजधानी में सफाई की क्या हालत है इसका पता सावन की शुरूआत में ही चल गया। इधर राजधानी के आसमान में काले मेघों ने डेरा डाला और रिमझिम फुहारों से शुरू हुआ बारिश का सफर झमाझम स्टेशन तक पहुंचा उधर हमारे शहर की सडक़ों पर पानी के लिए हाउसफुल का बोर्ड लग गया। शहर के दूसरे हिस्सों की बात छोडि़ए जनाब वीआईपी माने जाने वाले क्षेत्रों की हालत यह हो गई वहां सडक़ पर ही नौकाविहार का आनंद लिया जा सके। मौका हाथ लगते ही अपने समाज में कोसने वाले गैंग भी सक्रिय हो गए। कोई सरकार पर लानतमलानत भेजने लगा तो कोई भगवान की शरण में जाकर इंद्रदेव के प्रकोप से बचने का उपाय ढूंढने लगा। लेकिन इस पूरी कवायद में हम अपनी जिम्मेदारी भूल गए हैं। नाले-नालियों को कूड़े से पाट देना, नालों पर कब्जे कर घर और दुकानें बना लेने की अपार सफलता के बाद तो हम यह दिन देखने ही हैं। अगर इस बार इंद्रदेव की कृपा ऐसे ही बरसती रही तो सडक़ों पर हम नौकाविहार का आनंद उठा सकेंगे।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.