You Are Here: Home » EXCLUSIVE » उत्तराखंड ने दिया देश को नया बैडमिंटन सितारा

उत्तराखंड ने दिया देश को नया बैडमिंटन सितारा

  • जूनियर एशिया विजेता लक्ष्य के साथ कुहू को सरकार का सम्मान
  • मुख्यमंत्री का वादा-खेलों को भरपूर प्रोत्साहन देंगे

देहरादून। देश को 53 साल पहले एशियाई स्तर पर जूनियर बैडमिंटन चैंपियन मिला था। उसके बाद ऐसा सूखा पड़ा कि इस खिताब के लिए भारत तरस गया। इस सूखे को खत्म किया उत्तराखंड के अल्मोड़ा के लक्ष्य सेन ने। इस 17 साल के किशोर ने इस खिताब को जीत कर अपना निजी रिकॉर्ड तो बेहतर किया है उत्तराखंड का और अल्मोड़ा का नाम भी रोशन कर डाला। खिताब जीतने के तुरंत बाद वह अपने परिवार के साथ देहरादून आए। इस मौके पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और खेल मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने अपने आवास स्थित जनता मिलन हॉल में आयोजित सम्मान समारोह में लक्ष्य को 5 लाख 53 हजार का चेक भेंट कर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने लागोस इंटरनेशनल बैडमिंटन चैम्पियन बनने पर कुहू गर्ग को भी सम्मान स्वरूप 2 लाख का चेक प्रदान किया।
कुहू रूस में खेल रही होने के कारण नहीं आ पाई। उनके पिता पुलिस के अपर महानिदेशक अशोक कुमार और मां डॉ. अलकनंदा अशोक ने सम्मान और चेक को ग्रहण किया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि खेलों का हमारे चहुमुखी एवं बहुआयामी विकास में बहुत बड़ा योगदान रहता है। हमारा छोटा राज्य है। लक्ष्य ने अपनी प्रतिभा से देश के साथ ही प्रदेश का नाम भी रोशन किया है। उन्होंने कहा कि हमें कुछ खेलों के प्रति अपना ध्यान केन्द्रित कर अच्छे कोचों को यहां लाने के प्रयास करना चाहिए। इससे राज्य के युवाओं को खेलों में और बेहतर अवसर प्राप्त हो सकेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे बच्चे प्राकृतिक रूप से जिस वातावरण में पलते बढ़ते है, वह उन्हें मजबूती प्रदान करता है। हमारे बच्चों में खेलों के हर क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने का जज्बा है। लक्ष्य सेन व कुहू गर्ग की विजय युवाओं की विजय है। खेल कोई भी हो, उनमें हमारे युवाओं का उत्साह देखते ही बनता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि खेल हमें स्वयं को आत्म केन्द्रित करने में भी मदद करते हैं। इससे अभिमान व घमण्ड रहित विजय भाव भी पैदा होता है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि लक्ष्य इसी तरह अपने और भी लक्ष्यों को प्राप्त करते हुए लक्ष्य भेद सेन नाम से प्रसिद्धि प्राप्त करेगा। मुख्यमंत्री ने लक्ष्य सेन के साथ ही कुहू गर्ग के माता-पिता व उनके कोच को उन्हें कामयाब बनाने के लिए बधाई दी।
मुख्यमंत्री ने कुहू गर्ग को दो लाख का चेक प्रदान किया। इस अवसर पर उत्तरांचल बैडमिंटन एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कुमार ने बताया कि बैडमिंटन में एशियन जूनियर चैंपियनशिप लक्ष्य सेन ने 53 वर्षों के बाद जीता है। इससे पहले 1965 में गौतम ठक्कर ने यह चैंपियनशिप जीती थी। उन्होंने बताया कि लक्ष्य का चयन यूथ ओलम्पिक के लिये भी हुआ है। उन्होंने इस अवसर पर मुख्यमंत्री को बैडमिंटन रैकेट भी प्रदान किया तथा कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं भी बैडमिंटन के खिलाड़ी हैं। लक्ष्य सेन ने कहा कि उनका प्रयास सदैव अपने खेल से देश व प्रदेश का नाम रोशन करने का रहेगा, उन्होंने इस सम्मान के लिये मुख्यमंत्री का आभार भी व्यक्त किया। इस अवसर पर विधायक गणेश जोशी, मुन्ना सिंह चौहान, मनोज रावत, सचिव खेल भूपिन्दर कौर औलख, उपाध्यक्ष उत्तराखण्ड बैडमिंटन एसोसिएशन आईजीपी संजय गुंज्याल, सचिव डीएस मनकोटी भी उपस्थित थे।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.