You Are Here: Home » NATIONAL NEWS » आवासीय योजनाओं के पार्कों पर अतिक्रमण का शिकंजा, धड़ल्ले से खड़े किए जा रहे वाहन

आवासीय योजनाओं के पार्कों पर अतिक्रमण का शिकंजा, धड़ल्ले से खड़े किए जा रहे वाहन

  • शहर के दर्जनों पार्कों से अतिक्रमण नहीं हटा पा रहा नगर निगम
  • वाहनों के कारण तमाम पार्कों की हरियाली हो रही है खत्म
  • पार्कों को अतिक्रमण मुक्त करने के आदेश के बावजूद सो रहे जिम्मेदार

Weekandtimes News Network
लखनऊ। अदालत के आदेश के बावजूद आवासीय योजनाओं में बने पार्कों में अतिक्रमण जारी है। हाल यह है कि यहां रहने वाले तमाम लोग पार्कों में अपने वाहन पार्क कर रहे हैं। इसके कारण इन पार्कों की हरियाली खत्म हो रही है। वहीं तमाम शिकायतों के बावजूद इन पार्कों से अतिक्रमण हटाने की कोई पहल होती नहीं दिख रही है। जिम्मेदार हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।
शहर को हरा भरा बनाने के लिए विभिन्न आवासीय योजनाओ में छोड़े गए पार्क बदहाली की कगार पर पहुंच चुके हैं। आवास विकास परिषद और एलडीए द्वारा विकसित तमाम कॉलोनियों के पार्कों पर नगर निगम ध्यान नहीं दे रहा है। कॉलोनी हैंडओवर होने के बाद से पार्कों के रख-रखाव पर खर्च नहीं किया गया। नगर निगम के अभियंत्रण विभाग की लापरवाही के कारण शहर के दर्जनों पार्कों में अतिक्रमण हो गया है। शहर में जगह-जगह ऐसे पार्क देखे जा सकते हैं, जिनका उपयोग वाहन पार्किंग के रूप में किया जाता है तो कहीं मैरिज लॉन के रूप में इन पार्कों का इस्तेमाल किया जा रहा है। शिकायत के बावजूद इन पार्कों की सुध लेने वाला कोई नहीं है। इसका एक उदाहरण राजधानी के अलीगंज में देखा जा सकता है। अलीगंज के शेखूपुरा मोहल्ले में आधा दर्जन पार्कों का इस्तेमाल गैराज के रूप में किया जा रहा है। मोहल्ले में भवन संख्या- 467, 559, 569 के सामने बने पार्कों की दीवार गायब हो चुकी है। दीवार को तोडक़रउसमें गाडिय़ां खड़ी की जाती है जिसके चलते मोहल्ले में बच्चों के खेलने की जगह नहीं बची है। पार्क बदहाल अवस्था में पड़े हैं। नगर निगम की ओर से पार्कों का विकास नहीं किया गया है। जिम्मेदारों की लापरवाही का आंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शेखूपुरा में ऐसे भी पार्क हैं जिनमें बाउंड्री वाल तक नहीं हैं।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.