You Are Here: Home » EXCLUSIVE » योजनाओं का फायदा दुर्गम इलाकों तक पहुंचे

योजनाओं का फायदा दुर्गम इलाकों तक पहुंचे

  • राज्यपाल बेबी ने लोगों से मुलाकात में जताई जरुरत
  • जागेश्वर और चितई गोल्ज्यू देवता के दर्शन किये

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

अल्मोड़ा। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने पहाड़ों का दौरा और निरीक्षण शुरू कर दिया है। वह अल्मोड़ा पहुंची और लोगों से मिलीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि जन शिकायतों के निस्तारण में तेजी लाने के साथ ही सुदूर ग्रामीण अंचलों में सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचे, इसका विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य शिक्षा, सडक़ व पेंशन से जुड़े मामलो में पूर्ण सतर्कता बरती जाय। राज्यपाल ने पर्वतीय क्षेत्र से हो रहे पलायन को रोकने और ग्रामीण क्षेत्रों तक युवाओं में बढ़ रही नशे की प्रवृत्ति रोकने के लिए जन जागरूकता अभियान चलाने की बात कही।
उन्होंने सर्व प्रतिभा लोक विद्या सांस्कृतिक समिति की तरफ से बनाये गये कुमाऊॅनी बोली में लिखित मातादेवी के भजनों का विमोचन किया। उन्होंने कहा कि लोक भाषा को बढ़ावा देने के लिए यह सराहनीय कदम है। उन्हें उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग की पूर्व सदस्य मंजुला बिष्ट ने तीन पुस्तकें जिनका संपादन स्वयं उन्होंने किया था, भेंट की गईं। राज्यपाल ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी जनपद में लेखन व शोध कार्य सहित साहित्य के क्षेत्र में अच्छा काम होता है जो हम सबके लिए अनुकरणीय है। हिमालय से उदघोष के सम्पादक दीपक पाण्डे ने भी अपनी पत्रिका राज्यपाल को भेंट की। राज्यपाल ने कहा कि जो भी शिकायतें की जाय उसमें प्रमाणिकता हो इसका विशेष ध्यान दिया जाय। अनावश्यक रूप बदले की भावना से कोई शिकायत न हो इसका ध्यान देना होगा। इस अवसर पर उन्होंने प्राकृतिक सौन्दर्य का अवलोकन करते हुए कहा कि पर्वतीय क्षेत्र में पर्यटन की अपार सम्भावनायें हैं।
यहां के पर्यटन को विकसित करने की आवश्यकता है। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष गोविन्द सिंह पिलख्वाल, भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुन्दन सिंह लटवाल, भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश गुरूरानी, अनुसूचित जाति मोर्चें के जिलाध्यक्ष चन्दन लाल टम्टा सहित उत्तराखण्ड क्रान्ति दल के पदाधिकारियों सहित अन्य ने राज्यपाल से शिष्टाचार भेंट की और अनेक समस्याओं के बारे में वार्ता की। राज्यपाल ने इस अवसर जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया को निर्देश दिये कि जनपद में साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव सहायता पहुंचाने की कोशिश की जाय। जहां पर समस्यायें अधिक है, उनका निराकरण करने की कोशिश की जाय। इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी रेणुका देवी, राज्यपाल के एडीसी असीम श्रीवास्तव, अपर जिलाधिकारी केएस टोलिया, उपजिलाधिकारी विवेक राय, तहसीलदार खुश्बू आर्या, थानाध्यक्ष नीरज भाकुनी सहित अनेक अधिकारी व जनप्रतिनिध उपस्थित थे। बेबी रानी मौर्य ने प्रवास के दौरान न्यायकारी चितई गोल्ज्यू देवता के मन्दिर में जाकर पूजा-अर्चना की और प्रदेश की सुख, शान्ति व खुशहाली की कामना की। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले श्रद्वालुओं को असुविधा न हो इसके लिए यहाँ पार्किंग की व्यवस्था के लिए प्रयास किये जाय।
इसके बाद राज्यपाल प्रसिद्व जागेश्वर मन्दिर पहुंची.वहां भी उन्होंने विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की। जागेश्वर मन्दिर के बारे में विस्तृत जानकारी भी प्राप्त की. इस दौरान जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रेणुका, मन्दिर समिति के प्रबन्धन भगवान भटट, उपाध्यक्ष गोविन्द गोपाल सहित अन्य पदाधिकारी पुजारी उपस्थित थे। राज्यपाल मुख्यालय बागेश्वर पहुंची। उनको गार्ड आफ आनर दिया गया। विश्राम गृह में जनपद के रेडक्रास सोसायटी के प्रतिनिधि मण्डल एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों के द्वारा शिष्टाचार भेंट की और जनपद के अनेक समस्याओं से भी अवगत कराया व प्रतीक चिन्ह भेंट किया। राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने लोनिविश्राम गृह के प्रागंण में रूद्राक्ष एवं च्यूरा का वृक्षारोपण भी किया।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.