You Are Here: Home » carrier » बॉस के सामने आत्मविश्वास के साथ कैसे रखें अपनी बात

बॉस के सामने आत्मविश्वास के साथ कैसे रखें अपनी बात

 

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

कई बार ऐसा होता है कि आप पर काम का बोझ ज्यादा होता है लेकिन आप यह सोचकर उसको निभाते रहते हैं कि बॉस आपको मेहनती समझेंगे। यहां पर आप गलत भी हो सकते हैं, हो सकता है बॉस कुछ और सोच रहे हों। अगर आप पर काम का बोझ ज्यादा है तो इस बारे में बॉस से बात करें लेकिन सीधे तौर पर बोलेंगे तो वह समझेंगे कि आप कामचोर हैं। ऐसे समय में यह जानना बेहद जरूरी होता है कि आपको बॉस से किस तरह से बात करनी चाहिए, ताकि वे आपकी भावनाओं को समझ सकें…

क्वॉलिटी पर ध्यान दें
कोई भी कंपनी इसलिए हायर करती है कि आप कंपनी के प्रॉडक्ट को बेहतर बनाएं। यह याद रखें कि एक मैनेजर कभी भी काम की क्वॉलिटी की कीमत पर काम की मात्रा को पसंद नहीं करेगा। इसलिए उनको खुलकर बताएं कि अधिक काम के कारण किस प्रकार आपके आउटपुट की क्वॉलिटी पर बुरा असर पड़ रहा है।

बोल्ड बनें
आप ऐसी परेशानी का सामना कर रहे हैं, तो खुलकर बात करें। खुलकर बात करने का सबसे ज्यादा फायदा यह होगा कि आप उन्हें बेहतर तरीके से अपनी समस्या के बारे में बता सकेंगे।

डेडलाइन पर रखें नजर
याद रखें, ऐसे वक्त में उन्हें ही फायदा मिलता है, जो अपने काम को बेहतर तरीके से और सही डेडलाइन में करके दिखाते हैं। कंपनी के मैनेजर्स भी उनकी सराहना करते हैं, जो अपने काम को लेकर बहुत गंभीर होते हैं और अच्छा ट्रैक रेकॉर्ड होने का फायदा उन्हें अक्सर ही मिलता है। इसलिए इस बात का ध्यान रखें।

ऑफिस में आजमाएं ये टिप्स, मिलेगी कामयाबी

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

हर कंपनी के अपने कुछ नियम होते हैं। वहीं कई नियम वहां काम करने वाले एंप्लॉयी के लिए भी होते हैं। इसे हम कंपनी का वर्क कल्चर कह सकते हैं। जब कंपनी अपना कोई भी वर्किंग कल्चर बनाती है, तो जरूरी होता है कि एंप्लॉयी उस कल्चर में रहे और नियमों का पालन करे। यदि आपने कोई नई कंपनी जॉइन की है, तो जरूरी है कि आप भी न केवल कंपनी, बल्कि वर्कप्लेस के नियमों को भी बखूबी जान लें।
जिम्मेदार बनें
अधिकतर कंपनियां ओपन कल्चर को प्रमोट कर रही है। ऐसे में ऑफिस में सभी कर्मचारी आसपास ही बैठते हैं। अगर आपको फोन पर तेज आवाज में बात करने की आदत है, तो इसे सुधारना होगा। अगर आप ऐसा करेंगे, तो इससे आपके पास बैठे अन्य लोगों को परेशानी हो सकती है। स्मार्टफोन यूज करते समय आपकी जिम्मेदारी बनती है कि आप उसे सायलेंट या वाइब्रेंट मोड पर रखें। इससे मिस कॉल या मेल के बारे में भी आपको सही समय पर जानकारी मिल सकती है।

आंखों में देखकर बोलें
ऑफिस में किसी से भी बात करते समय आई कॉन्टैक्ट जरूरी है। इससे सामने वाले को लगता है कि आप उसकी बातों में इंटरेस्ट ले रहे हैं। उस समय उसकी ओर से कही गई महत्वपूर्ण बातें आप मिस कर देते हैं और बाद में परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि जो आपसे बात कर रहा है, उसे प्रॉपर रिस्पेक्ट दें और उसकी आंखों में देखकर बात करें।

कायदे का हो ड्रेसअप
कई कंपनियां अपने एंप्लॉयी के लिए एक ड्रेस कोड रखती हैं। वहीं कुछ कंपनियां किसी भी ड्रेस कोड का पालन नहीं करतीं, लेकिन वे चाहती हैं कि उसके सभी कर्मचारियों का ड्रेसअप कायदे का हो। ऑफिस जाते समय आपके कपड़े ऐसे होने चाहिए, जो अन्य लोगों को भी अच्छे लगें। क्योंकि आपके पहने हुए कपड़ों से आपका पहला प्रभाव नजर आता है।

पाबंद होना जरूरी
ऑफिस के लिए आपको समय का पाबंद होना जरूरी है। दरअसल, ट्रैफिक की समस्या के कारण कई बार ऑफिस पहुंचने में देरी हो जाती है। इससे बचने के लिए बेहतर है कि आप घर से कुछ समय पहले निकलें, ताकि ऑफिस समय पर पहुंच सकें। यही स्थिति ऑफिस की मीटिंग के लिए लागू होती है। हर मीटिंग से पहले आपको यह पता होना चाहिए कि मीटिंग कितनी देर चल सकती है। दूसरी मीटिंग की प्लानिंग उसी आधार पर बनाए।

कम बोलें, लेकिन अच्छा बोलें
बोलते समय ऐसे शब्दों का प्रयोग करें, जिससे दूसरों को परेशानी न हो। बोलते समय टोन पर भी ध्यान देना होगा। आपकी कोशिश होनी चाहिए कि किसी भी परिस्थिति में आपको अपनी कूलनेस को नहीं छोडऩा होता है। यही बात तब भी लागू होती है, जब आप ईमेल ड्रॉफ्ट करते हैं। वहां भी आपको सही शब्दों का इस्तेमाल करना होता है। ईमेल्स आपके इमोशन को कैरी नहीं करते हैं। इसलिए यहां पर अच्छे शब्दों का इस्तेमाल और भी जरूरी हो जाता है।

 

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.