You Are Here: Home » UTTAR PRADESH » राष्टï्रसेवा से बड़ा धर्म नहीं

राष्टï्रसेवा से बड़ा धर्म नहीं

वीक एंड टाइम्स ब्यूरो

हरिद्वार। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत सप्तऋषि आश्रम हरिद्वार में आरम्भ भारत माता आराधना महायज्ञ के भूमि पूजन कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा कि हम अपने देश को भारत माता कहकर संबोधित करते हैं, जो हमें इस राष्टï्र का पुत्र होने का एहसास कराता है, अर्थात राष्टï्र सभी के लिए सर्वोपरी है। यदि राष्टï्र नहीं तो व्यक्ति नहीं। व्यक्ति को खुद की मान्यता और रक्षा के लिए राष्टï्र की रक्षा और मान्यता को पहले स्वीकार करना चाहिए और राष्टï्र की आराधना करनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि भारत की मजबूत व्यापक सनातन संस्कृति के कारण भारत निरंतर आदि काल से अपना अस्तित्व विश्व में स्थापित किये हुए है.व्यक्ति संरक्षण नहीं राष्टï्र संरक्षण हमारी परम्परा रही है। भारत की सनातन संस्कृति का महत्वपूर्ण रक्षक हमारी सन्यास और संत परम्परा है। जिसके कारण सभी समय समय पर इनसे मार्गदर्शन लेकर अपनी संस्कृति को संजोय रखने का प्रयास करते हैं। मुख्यमंत्री ने भारतमाता की आराधना के लिए महायज्ञ का आयोजन किये जाने के विचार की प्रशंसा की तथा सम्पूर्ण भारत के लिए सुख शांति की प्रार्थना कर खुशहाल भारत के यज्ञ में राज्य सरकार की आहुति का अवसर मिलने पर आभार प्रकट किया।
इस अवसर पर झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल, भारत माता मन्दिर ट्रस्ट के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरि, भाजपा जिलाध्यक्ष जयपाल चौहान, पूर्व महापौर मनोज गर्ग, महामण्डलेश्वर हरिचेतनानंद महाराज, मानवेन्द्र सिंह, सुरेश केडिय़ा, कमलेश सिंहल, विकास तिवारी, नरेश शर्मा सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.