You Are Here: Home » UTTAR PRADESH » लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे झोलाछाप, कार्रवाई से कतरा रहे जिम्मेदार

लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे झोलाछाप, कार्रवाई से कतरा रहे जिम्मेदार

  • बिना डिग्री तंबुओं में लोगों का गारंटी के साथ इलाज कर रहे झोलाछाप
  • भस्म और जड़ी बूटियों से लोगों की चिकित्सा कर रहे बाबा

वीकएंड टाइम्स न्यूज नेटवर्क

लखनऊ। स्वास्थ्य विभाग की नाक के नीचे शहर भर में तंबुओं में फर्जी दवाखाने चल रहे हैं। इन दवाखानों को संचाालित करने वाले लोगों को दवा के नाम पर कुछ भस्म और जड़ी-बूटियां देकर मोटी रकम उगाह रहे हैं। हैरानी की बात यह है कि वे अपनी दवा से मर्ज को ठीक करने की गारंटी तक देते हैं। वे इसके जरिए लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इनके खिलाफ कार्रवाई करने से कतरा रहे हैं।
राजधानी में ऐसे फर्जी दवाखानों की भरमार है। खानदानी दवाखाना के नाम पर इसके संचालक दवा और इलाज के नाम पर लोगों को खूब बेवकूफ बना रहे हैं। राजधानी की सडक़ों पर ऐसे दवाखानों की कई दुकानें सजी हुई हैं और यहां डॉक्टर के नाम पर बाबा बैठे रहते हैं। इनका दावा है कि उनकी दवा से मर्ज इक्कीस दिन में ही दूर हो जायेगा। हैरानी की बात यह है कि इन कथित डाक्टरों के पास कोई चिकित्सा की डिग्री नहीं है। ये कथित डॉक्टर भस्मों द्वारा मर्ज को दूर करने की गारंटी देते हैं। इनके दवा देने का तरीका भी अजीब है। ये 18-26 वर्ष की उम्र वालों से 1800-2000 तक वसूलते हैं जबकि इससे ज्यादा उम्र वालों से वे इससे अधिक वसूलते हैं। सरकार लगातार प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर रखने की कवायद कर रही है वहीं फर्जी डॉक्टर लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। जब राजधानी का यह हाल है तो ग्रामीण क्षेत्रों का अंदाजा लगाया जा सकता है। वहीं चिकित्सकों का कहना है कि ऐसे दवाखानों से इलाज करने से लोगों को बचना चाहिए। यह जानलेवा भी साबित हो सकता है।

इन बीमारियों का करते हैं इलाज
पेट में गैस, कब्ज, पुरुष रोग, सुस्ती, कमजोरी, कमर दर्द, चर्म रोग, स्त्री रोग, गुप्त रोग आदि।

साथियों संग शहर में जमाया डेरा
ऐसा ही एक दवाखाना चला रहे राजू का कहना है कि वे हरिद्वार से यहां आए हैं। उनके साथ कई साथी इस काम में लगे हुए हैं। यह उनका खानदानी पेशा है। वे पिछले आठ-दस सालों से लखनऊ में दवाखाना चला रहे हैं। उनके साथी भी यहां के कई इलाकों में दवाखाना चला रहे हैं।

इनकी जानकारी मिलने पर हम कार्रवाई करते हैं। कुछ दिन में ये लोग फिर अपनी दुकान सजा लेते हैं। जल्द ही इनके खिलाफ फिर कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. नरेंद्र अग्रवाल,चीफ मेडिकल ऑफिसर

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.