You Are Here: Home » हिम प्रदेश

ट्रिपल इंजन का फायदा तो मिले

जब राज्य में बीजेपी की और केंद्र में यूपीए की सरकार थी तो खूब ग्रीन बोनस मांगा जाता था। तकरीबन 20 हजार करोड़ रूपये का। मुख्यमंत्री थे डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक। उनका दावा वाजिब से ज्यादा जरुरत जैसा दिखता था। जिस राज्य के पास राजस्व के लिए स्रोत अधिक न हो और सिर्फ खनन, शराब और कर ही साधन हो, उसके लिए कहीं न कहीं से पैसे जुटाने की कोशिश करना कहीं से भी अनुचित या अव्यवहारिक नहीं था। निशंक और बीजेपी ग्रीन बोनस का ...

Read more

सीबीआई खुद आगे आए

चलिए मान लीजिये कि केंद्र सरकार तकरीबन 500 करोड़ रुपये के इस घोटाले की जांच के हक में नहीं है तो फिर सीबीआई को क्या हो गया? क्या वह इतनी मजबूर है कि जब तक उसको जांच की विधिवत सिफारिश नहीं मिलती है, वह जांच नहीं कर सकती है? मुझे लगता है कि ऐसा नहीं है। ऐसा हो रहा है तो मुझे हैरत है। ऐसे तो राज्य और केंद्र सरकारें बहुत से मामलों को, जिसमें फंसने के आसार हो, को दबा देगी। फिर कैसी सीबीआई और किसकी सीबीआई। एनएच-7 ...

Read more

खेमका के बहाने

देश में खेमका अकेली मिसाल नहीं हैं। तलाशे तो कई मिल जाएंगे। उतने तबादले भले न झेले हों, थोड़ा कम ही सही, लेकिन सरकार से मोर्चा लेने वाले कई अफसरों ने जिल्लत झेली हैं। झेल रहे हैं। हमेशा साइड लाइन रहे या फिर ज्यादातर वक्त साइड लाइन रहे। उत्तर प्रदेश कैडर के एक आईएएस अफसर होते थे, सूर्य प्रताप सिंह। हरियाणा के आईएएस अफसर अशोक खेमका का नाम न सिर्फ देश के ईमानदार अफसरों में शुमार होता है बल्कि उनको आज आदर्शवाद, ...

Read more

एनडी जैसा कोई नहीं

छले काफी सालों से मीडिया और खास तौर पर सोशल मीडिया में देश के प्रबुद्ध राजनेताओं में शुमार और बेहद ज्ञानी वयोवृद्ध नारायणदत्त तिवारी को लेकर अपशकुन भरी और बेहद ऊल-जुलूल अफवाहें उड़ती रहती हैं। मुझे याद है कि पिछले दो सालों में कम से कम पांच बार उनके महाप्रयाण की अफवाहें जोर-शोर से उड़ी। किसी भी तरह की मीडिया के लिए यह बेहद लज्जाजनक है कि एनडी ही नहीं बल्कि किसी के भी बारे में इस किस्म की लापरवाही भरी और अक् ...

Read more

हिमाचल और गुजरात में किस करवट बैठेगा चुनावी ऊंट?

हिमाचल प्रदेश और गुजरात विधानसभा के चुनाव इस मायने में विशेष हैं कि उत्तर एवं पश्चिम भारत के इन दो राज्यों के ये चुनाव नरेन्द्र मोदी के दो बड़े निर्णयों से प्राप्त परिणामों के बाद हो रहे हैं। विमुद्रीकरण के लगभग तीन माह बाद फरवरी में 5 राज्यों में जो चुनाव हुए थे, उनमें उत्तरप्रदेश में जहां बीजेपी ने समाजवादियों का सफाया कर दिया था, वहीं पंजाब में कांग्रेस सत्ता में आई। पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में बीजेपी सत् ...

Read more

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.