You Are Here: Home » हलचल

निधि पर कुंडली मारे बैठे हैं सांसद

4234.43 लाख रूपये खर्च नहीं कर पाए पांचों सांसद देहरादून। राज्य के विकास के लिए भाजपा नेता पिछले पांच वर्षों से कांग्रेस सरकार पर दबाव बनाते रहे और सरकार पर हमले करते रहे, लेकिन राज्य के सांसद पैसा खर्च करने में कंजूसी दिखाते रहे हैं। सांसदों की सांसद निधि ( 4234.43 लाख रूपये) खर्च होनी शेष है। इसमें लोकसभा सांसदों के 2477.82 लाख तथा राज्य सभा सांसदों के 1756.61 लाख रूपये शामिल हैं। भाजपा राज्य के विकास के ...

Read more

परिस्थितियां बदलती हैं हमेशा

एक बार भगवान बुद्ध कहीं जा रहे थे। वह पैदल यात्रा कर रहे थे, इस कारण थक कर एक पेड़ के नीचे बैठ गए। उनके साथ उनके अन्य शिष्यों के साथ आनंद भी मौजूद थे। भगवान बुद्ध ने कहा, आनंद यहां नजदीक एक झरना है, वहां से जल ले आओ। आनंद झरने के पास पहुंचा, लेकिन वहां गंदा पानी बह रहा था। उन्होंने पानी भरना ठीक नहीं समझा। वह थोड़ा देर रुके और पानी साफ हो गया। उन्होंने साफ पानी कमंडल में भरा। और बुद्ध के पास चल दिए। उन्होंन ...

Read more

अपना सब भुला देंगे…

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुजऱ जाओ कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नजऱ रखो ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे गिला,शिकवा,हसद,कीना,के तोहफे मेरी किस्मत है मेरे अहबाब अब इससे जय़िादा और क्य ...

Read more

राजनय पर बोझ न बने बाहरी हस्तक्षेप

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पाकिस्तान यात्रा की अचानक घोषणा से राजनयिक अटकलबाजी का एक नया दौर शुरू हो गया। लगता है निकट भविष्य में नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान यात्रा की जमीन तैयार की जा रही है। कांग्रेस का यह सवाल उठाना नाजायज नहीं लगता कि ऐसा क्या बदल गया है कि महीनों से अटका-भटका संवाद एक बार फिर से पटरी पर लाने की कोशिश जोर पकड़ रही है। मोदी और भाजपा के कट्टर समर्थक भी यह समझ पाने में असमर्थ हैं क ...

Read more

मीडिया को मुदï्दों को लेकर अपनी समझ बदलनी होगी

पिछले हफ्ते जिस दिन देश का अनेक राष्ट्रीय चैनल इस बात पर स्टूडियो डिस्कशन करा रहे थे कि क्या पंजाब के एक मंदिर में पासपोर्ट ले कर जाने और ‘मन्नत’ मांगने से ‘वीसा’ लग जाता है या यह मात्र ‘भ्रान्ति’ है, उसी दिन ब्रिटेन की एक संस्था इप्सोस मूरी ने अपने अध्ययन में पाया कि भारतीय जनता में सही मुदï्दों की समझ काफी कम है और अधिकतर लोग इस बात से चिंतित नहीं कि देश में पिछले कई दशकों से गरीब-अमीर की खाई लगातार बढ़ती ...

Read more

All Rights Reserved to Weekand Times . Website Developed by Prabhat Media Creations.